नॅशनल स्मार्ट सिटी मिशन | National Smart City Mission in Hindi

National Smart City Mission in Hindi, स्मार्ट सिटी मिशन क्या है? | स्मार्ट सिटी योजना हिन्दी में 

भारत की वर्तमान जनसंख्या का लगभग 31% को शहरों में बसता है. इनका सकल घरेलू उत्पाद में 63% (जनगणना 2011) का योगदान हैं। ऐसी उम्मीद है कि वर्ष 2030 तक शहरी क्षेत्रों में भारत की आबादी का 40% रहेगा और भारत के सकल घरेलू उत्पाद में इसका योगदान 75% का होगा ।

इसके लिए भौतिक, संस्थागत, सामाजिक और आर्थिक बुनियादी ढांचे के व्यापक विकास की आवश्यकता है। ये सभी जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने एवं लोगों और निवेश को आकर्षित करने, विकास एवं प्रगति के एक गुणी चक्र की स्थापना करने में महत्वपूर्ण हैं।

स्मार्ट सिटी मिशन स्थानीय विकास को सक्षम करने और प्रौद्योगिकी की मदद से नागरिकों के लिए बेहतर परिणामों के माध्यम से जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने तथा आर्थिक विकास को गति देने हेतु भारत सरकार द्वारा एक अभिनव और नई पहल है।

Smart City Mission क्या है?

स्मार्ट सिटी यानि की स्मार्ट शहर और स्मार्ट शहर का मतलब है कि पानी, बिजली, शिक्षा, स्वास्थ्य, यातायात, सुरक्षा, मनोरंजन, कारोबार, रोजगार के अच्छे अवसर समेत तमाम सुविधाओं से भरपूर्ण शहर जो कि हर मायने में सामान्य शहरों से स्मार्ट होगा।

देश में सभी नागरिकों को मूलभूत सुविधाओं मिले और स्वच्छ व रोगमुक्त पर्यावरण मिले जिसे वे अपनी जीवनशैली में सुधार ला सकें इस मकसद से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 25 जून 2015 को स्मार्ट सिटी योजना – Smart City Mission की शुरुआत की जिसके भारत के हर राज्य में एक स्मार्ट सिटी होगा।

स्मार्ट सिटी मिशन रणनीति

  • पूरे शहर के लिए पहल जिसमे कम से कम एक स्मार्ट समाधान शहरभर में लागू किया गया है
  • क्षेत्र का कदम-दर-कदम विकास – क्षेत्र के आधार पर प्रगति के तीन मॉडल
  • रेट्रोफिटिंग
  • पुनर्विकास
  • हरितक्षेत्र

सामान्य शहर से कैसे अलग होंगे स्मार्ट सिटी?

पूरे शहर के लिए पहल जिसमे कम से कम एक स्मार्ट समाधान शहरभर में लागू किया गया है

स्मार्ट सिटी योजना के तहत सरकार का मुख्य उद्देश्य ऐसे शहरों को निर्माण करना है लोगों को उचित गुणवत्ता वाली सभी सुविधाएं मिल सके और लोगों के जीवन स्तर में सुधार आ सके । इसके साथ ही इसका उद्देश्य स्वास्थ्य, शिक्षा, मनोरंजन, खेल, पानी, बिजली, रोजगार समेत अन्य सभी सुविधाएं मुहैया करवाना है । योजना का उद्देश्य गरीबों के लिए सस्ते दामों पर आवास उपलब्ध करवाना है जिससे गरीबों को झुग्गी झोपड़ियों में नहीं पड़ेगा औऱ वे भी अन्य लोगों की तरह अपने जीवन स्तर में सुधार ला सकेंगे।

स्मार्ट सिटी योजना के उद्देश्य क्या है?

  • शहर को सड़क नेटवर्क से जोड़ कर सस्ते और सुगम परिवहन की सुविधा देना।
  • 24 घंटा पानी और बिजली की सुविधा।
  • आईटी कनेक्टीविटी से जोडना।
  • यातायात की अच्छी सुविधा देने का मुख्य मकसद है जिसके चलते लोग अपनी यात्रा को सुगम बना सकेंगे।
  • लोगों के लिए पार्क, खेल और मनोरंजन के उचित साधन उपलब्ध करवाने का उद्देश्य रखा गया है।
  • युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर सृजित करने का मुख्य उद्देश्य ।
  • स्वच्छ व सुंदर वातावरण को विकसित करना है।
  • अगर किसी शहर में 10 लाख की आबादी है तो वहां एक इंजीनियरिंग कॉलेज, मेडिकल कॉलेज, स्कूल और बैंक की उचित सुविधाएं उपलब्ध करवाना ताकि लोगों को इन सुविधाओं का फायदा लेने के लिए भटकना नहीं पड़े।
  • रिहायशी इलाके से 1 किलोमीटर की दूरी पर मेट्रो की उचित व्यवस्था।

स्मार्ट सिटी परियोजना के लिए खर्च – Expenses for Smart City Mission

स्मार्ट सिटी योजना में शुरुआत में 7, 000 करोड़ रुपए की लागत खर्च की जा चुकी है। वहीं आखिरी चरण में इस योजना में 7,00,000 करोड़ रुपए की लागत लगाई जा सकती है।

Important things in Smart City Mission

  • स्मार्ट सिटी योजना के तहत 100 शहरों को स्मार्ट सिटी में शामिल किया जाएगा।
  • इस मिशन में 100 शहरों को शामिल किया जाएगा और इसकी अवधि पांच साल (वित्तीय वर्ष 2015-16 से वित्तीय वर्ष 2019-20) की होगी। मिशन उसके बाद शहरी विकास मंत्रालय द्वारा मूल्यांकन किए जाने एवं प्राप्त सीखों को शामिल किये जाने के साथ जारी रखा जा सकता है।